UP ‘आत्मनिर्भर रोजगार अभियान’ – Uttar Pradesh Atma Nirbhar Rojgar Abhiyaan

आत्म निर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान 2020

Uttar Pradesh Atma Nirbhar Rojgar Abhiyaan Online Registration/Online Apply/in Hindi | UP Atmanirbhar Rojgar Abhiyan  | उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान एप्लीकेशन फॉर्म/ऑनलाइन आवेदन

आज दिनांक 26 जून, 2020 को एक प्रधानमंत्री श्री. नरेन्द्र मोदी ने लाइव विडियो कॉनफ्रेसिंग के माध्यम से ’’ आत्म निर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान ’’ की शुरुआत कर  दी हैं जो कि, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अभियान  के आधार औऱ ब्लू-प्रिंट पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री. आदित्यनाथ योगी जी की एक कल्याणकारी अभियान  हैं जिसके माध्यम से हमारे योगी जी, उत्तर प्रदेश के सभी प्रवासी मजदूरो और स्थानीय मजदूरो को कोरोना महामारी की चपेट से बचाने के लिए उनकी घर वापसी का औऱ उनको रोजगार प्रदान करने के लिए दो-तरफा अभियान  अर्थात् आत्म निर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान की शुरुआत मोदी के कर-कमलो के द्धारा आज सुबह 11 बजे कर दिया गया हैं।

योगी का मास्टरस्ट्रोक

त्वरित विकास की छवि रखने वाले हमारे गेरुआ वस्त्र धारी मुख्यमंत्री श्री. आदित्यनाथ योगी जी ने, आज सुबह 11 बजे के करीब एक तीर से दो निशाने करते हुए ’’ आत्म निर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान ’’ की शुरुआत देश के प्रधानमंत्री श्री. मोदी के कर-कमलो से करवाया।

हम इसे एक पंथ दो काज इसलिए कह रहे हैं क्योंकि पूरा विश्व इस समय कोरोना की महामारी को झेल रहा हैं, अपनी टूटी हुई अर्थव्यवस्था को जोड़ने का अथक प्रयास कर रहा हैं लेकिन भारत की तस्वीर कुछ और ही नजर आ रही हैं क्योंकि यहां हम जितनी मजबूती से कोरोना से लड रहे हैं उतनी मजबूती से हम अपने कोरोना पीडितो की आर्थिक-खाद्य और रोजगार आदि जैसी मूलभुत अभियान ओ की पूर्ति भी बड़ी ही सहजता के साथ कर रहे हैं जिसका एक ताजा उदाहरण आज पेश किया हैं

UP Atma Nirbhar Rojgar Abhiyan Uttar Pradesh UP

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री. आदित्यनाथ योगी जी, जिन्होंने अपनी महत्वाकांक्षी अभियान  का आज शुभारम्भ कर दिया हैं जिसके माध्यम से ना केवल हमारे गरीब, आर्थिक तौर पर कमजोर औऱ पिछडे वर्ग के लोगो की घर वापसी की जायेगी बल्कि उन्हें रोजगार भी दिया जायेगा ताकि वे अपनी औऱ अपने परिवार की आर्थिक जरुरतो को पूरा करते हुए अपना और  अपने परिवार का सुचारु पालन-पोषण कर सकें। इसलिए हमने योगी जी कि, इस अभियान  को मास्टरस्ट्रोक का नाम दिया हैं जो कि, सार्थक ही हैं।

18 जून से काम पर आयेगे 42 लाख कामगार

हम आपको बताना चाहते है कि, उत्तर प्रदेश में, लगभग 7-8 लाख औघोगिक इकाईयो को बन्द कर दिया गया जिसकी वजह से इसमें काम करने वाले लगभग 42 लाख कामगारो पर सीधी आर्थिक मार पड़ी थी जिससे हम सभी भली-भांति परिचित हैं।

अब ताजा सूरत-ए-हाल ये हैं कि, योगी सरकार 18 जून को फिर से इन सभी 7-8 लाख औघोगिक इकाईयो को गति प्रदान करने वाली हैं जिसकी वजह यहा पर काम करने वाले लगभग 42 लाख कामगारो को आर्थिक सुरक्षा प्रदान किया जायेगा औऱ साथ ही जहां तक संभव होगा उनकी हर जरुरत को पूरा करने की हर कोशिश की जायेगी।

खुद मोदी देंगे 5000 करोड़ रुपयो का कर्ज

हम सब इस समय देश के हालातो से अच्छी तरह से परिचित हैं औऱ ये भी जानते हैं कि, किस तरह से इस मुसीबत के समय भारत सरकार  सही मायनो में ’’ कल्याणकारी सरकार ’’ के सभी कर्तव्यो को पूरा कर रही हैं उसी दिशा में, आज भी एक अह्म कदम उठाते हुए मोदी, योगी सरकार की इस कल्याणकारी अभियान  अर्थात् आत्म निर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान के तहत खुद अपने हाथो से लघु, सूक्ष्म औऱ मध्यम औघोगिक इकाईयो को अर्थात् उत्तर प्रदेश के 2 लाख 21 हजार इकाईयो को 5000 करोड रुपयो का कर्ज देगे ताकि ये इकाईया ना सिर्फ अपने कामगारो की आर्थिक जरुरतो का पूरा कर सके बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश को कोरोना से लड़ने में काबिल बना सकें।

उत्तर प्रदेश के 32 जिलो को किया जायेगा इस अभियान  में शामिल

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अभियान  के ब्लू-प्रिंट पर बनी इस आत्म निर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान के तहत आज इसका मोदी द्धारा उद्घाटन समारोह सम्पन्न हुआ जिसके तहत कुल उत्तर प्रदेश के कुल 32 जिलो में से 6 जिलो के मजदूरो और प्रवासी मजदूरो से मोदी ने सीधी बात करते हुए इस अभियान का शिलान्यसा किया हैं।

हम आपकी पूरी जानकारी के लिए इन यू.पी के इन 32 जिलो की पूरी सूची लेकर आये हैं ताकि आप इस अभियान  के सभी पक्षो को बेहतर तरीके से  समझ सकें। ये जिले इस प्रकार से हैं – लखीमपुर खीरी, हरदोई, सीतापुर, बलरामपुर, बहराइच, श्रावस्ती, गोंडा, उन्नाव, जालौन, बांदा, रायबरेली, फतेहपुर, अमेठी, अयोध्या, कौशाम्बी, प्रयागराज, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, अम्बेडकरनगर, बस्ती, सिद्धार्थनगर, महाराजगंज, संतकबीर, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, मिर्जापुर, वाराणसी, गाजीपुर, जौनपुर व आजमगढ आदि जिलो को इस अभियान  के तहत शामिल करके इसकी उपयोगित को सिद्ध किया जायेगा।

30 लाख से अधिक वासस आये प्रवासी श्रमिको को मिलेगा रोजगार

हम अपने सभी उत्तर प्रदेशवासियो और खासकर इन 32 जिलो में वापस आये अपने सभी प्रवासी मजदूरो को बताना चाहते हैं कि, इस अभियान  अर्थात् आत्म निर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान के तहत हमारे यू.पी में वापस आये सभी प्रवासी मजदूरो अर्थात् कुल 30 लाख से अधिक की संख्या में वापस आये अपने सभी श्रमिको को रोजगार दिया जायेगा ताकि इनकी आर्थिक जरुरते पूरी हो और इनके परिवार का पालन-पोषण बेहतर तरीके से हो पाये।

योगी सरकार का दावा, 10 लाख नौकरीयो का होगा उच्चारण

अपने सभी 30 लाख से अधिक वापस आये प्रवासी श्रमिको को रोजगार प्रदान करने लिए योगी सरकार ने, अपनी पीठ थपथपाते हुए कहा हैं कि, हमने इस अभियान  को बेहतर रुप व तस्वीर देने के लिए सरकारी उघोग, निर्माण परिअभियान यें व मनेरगा आदि को मिलाकर कुल 10 लाख से अधिक नौकरीयो को पैदा किया है ताकि हमारे सभी प्रवासी श्रमिको को रोजगार प्रदान किया जा सकें। योगी सरकार का कहना हैं कि, ये तो सिर्फ एक झलकी हैं क्योकि भी और नौकरीयो का सृजन किया जायेगा ताकि इस अभियान  को व्यापक स्तर पर संचालित करते हुए सभी की आर्थिक जरुरते पुरी की जा सके।

योगी सरकार ने जारी किया, तालाबंदी के दौरान देश का सबसे बड़ा रोजगार कार्यक्रम

यू.पी के 32 जिलो, इन 32 जिलो में वापस आये कुल 30 लाख से अधिक प्रवास श्रमिक और 10 लाख से अधिक नौकरीयो की हुई उत्पत्ति। हम इन सभी आंकड़ो पर जब नजर डालते हैं तो पाते हे कि, यू.पी की योगी सरकार ने, कोरोना के कारण लगी तालाबंदी के संकटमयी दौर में सबसे बड़ा रोजगार कार्यक्रम शुरु करने का गौरव हासिल किया हैं और मानवता के प्रति अपने कर्तव्य को भी ईमानदारीपूर्वक निभाया हैं।

6 जिलो के कामगारो से मोदी की सीधी बात

आज जब मोदी ने, इस कल्याणकारी अभियान  को अपने कर-कमलो से उद्घाटित करने के दौरान मोदी ने, अभियान  में शामिल कुल 32 जिलो में से 6 जिलो के श्रमिको, वापस अपने घर आये प्रवासी श्रमिको से सीधी बात की और उनके अनुभवो को अपने स्तर पर लिया जायेजा। इसके साथ ही सबको मोदी ने आशान्वित किया कि, अब घबराने कि, कोई जरुरत नहीं हैं क्योंकि अब आपको, आपके घरो के पास ही रोजगार दिया जायेगा ताकि आप अपनी औऱ अपने परिवार की सभी आर्थिक जरुरतो को पूरा कर सकें और उनका सुचारु पालन-पोषण कर सकें।

आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान

एम.एस.एम.ई (MSME) निभायेगा दोहरी भूमिका

हमारा एम.एस.एम.ई पहले केवल उघमियो को ही कर्ज प्रदान करता था लेकिन इस अभियान  के तहत खुद मुख्यमंत्री. योगी ने एम.एस.एम.ई (MSME) को निर्देश दिये हैं जिसके तहत अब एम.एस.एम.ई सरकारी अभियान ओ के पात्र सभी श्रमिको को बैंको से कर्ज दिलवाने की दोहरी भूमिका निभायेगा जिससे हमारे सभी श्रमिक भाई अपनी आर्थिक जरुरते पूरी कर सकें औऱ अपने रोजगार को खड़ा कर अपने पैरो पर खुद से खड़े हो सकें।

दिये जाने वाले कर्जा का ब्लू-प्रिंट

योगी सरकार की इस कल्याणकारी अभियान  में, औघोगिक इकाईयो को 9,126 करोड़ रुपयो का कर्ज, आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत 2.40 लाख इकारइयो को 5,900 करोड़ रुपयो का कर्ज दिया जायेगा देने के साथ-साथ 1.25 करोड़ कामगारो को अलग-अलग परियाजनाओ में शामिल किया जायेगा और नई औघोगिक इकाइयो को प्रोत्साहन देने के लिए करीब 1.11 लाख नई इकाइयो को 3,226 करोड़ रुपयो का वितरण किया जायेगा ताकि इस मुश्किल समय में सभी हम भी मिलकर कोरोना को हराने में भारत का साथ सक्रियतापूर्वक दे सकें।

Atma Nirbhar Abhiyan Rojgar Abhiyaan

ग्राम विकास औऱ पंचायती राज विभागो में कसी कमर

योगी सरकार की इस कल्याणकारी अभियान  को सफल बनाने, सभी प्रवासी श्रमिको को रोजगार प्रदान करने, सभी तक इस अभियान  का लाभ पहुंचाने लिए हमारे इन 32 जिलो के सभी ग्राम विकास और पंचायत विभागो के अधिकारीयो ने अपनी पूरी कमर कस ली हैं ताकि इस अभियान  का लाभ जन-जन तक पहुंचाकर इसे सर्वव्यापक स्वरुप प्रदान किया जा सकें और इस अभियान  का सफल बनाया जा सकें।

FAQ’s

अभियान  को लेकर आपके Question. और हमारे Ans.

अभियान  को लेकर आपके Q. औऱ हमारे Ans. इस प्रकार से हैं-

Q– इस अभियान  का लाभ किस राज्य को मिलेगा ?

Ans. – इस अभियान  का लाभ उत्तर प्रदेश राज्य को मिलेगा ।

Q – इस अभियान  के तहत कितने जिलो को शामिल किया गया हैं ?

Ans. – इस अभियान  के तहत कुल 32 जिलो को शामिल किया गया हैं।

Q – इस अभियान  का मौलिक लक्ष्य क्या हैं ?

Ans. – इस अभियान  का मौलिक लक्ष्य हैं, 30 लाख वापस आये उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरो को को रोजगार औऱ आर्थिक सहायता देना हैं ताक हमारे ये सभी श्रमिक अपना औऱ अपने परिवार का सुचारु पालन-पोषण कर सकें।

Q – इस अभियान के तहत कुल कितने जिलो के श्रमिको से मोदी ने सीधी बात की ?

Ans. – इस अभियान के तहत कुल 6 जिलो के श्रमिको से मोदी ने सीधी बात की हैं ताकि उनके अऩुभवो को समझा ज सके और उसी अनुसार अभियान  का संचालन किया जा सके।

Q – इस अभियान  के तहत कुल कितने उघमियो की वापसी होगी ?

Ans. – इसके तहत कुल 42 लाख उघमियो की वापसी होगी और जिससे हमारी अर्थव्यवस्था को सहारा मिलेगा।

Q- इसके तहत कुल कितने कर्जो का वितरण होगा ?

Ans. – इसके तहत कुल 9,126 करोड रुपये कर्ज का वितरण किया जायेगा ताकि इन उघोगो को गति प्रदान की जा सकें और साथ ही अर्थव्यवस्था को।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *