प्रधानमंत्री ग्रामीण/शहरी आवास योजना क्या है? सब्सिडी, आवश्यक दस्तावेज, लाभ

Pradhan Mantri Awas Yojana Kya Hai Gramin, Sehari

प्रधानमंत्री आवास योजना क्या है?

pradhan mantri shehri/gramin awas yojana kya hai in hindi | pradhan mantri awas yojana ka labh kaise le/kab milega/milta hai

इंसान के पैदा होने से मरने तक उसकी बहुत सी इच्छाएं और ज़रूरतें होती है। समय के साथ इछाओ और ज़रूरतो में बदलाव होता रहता हैं मगर इनमें कुछ ज़रूरतें ऐसी होती है जो बदलती नही और सबकी ज़िन्दगी की वो मूलभूत ज़रूरत है।

रोटी, कपड़ा और मकान, ये तीन सब मूलभूत ज़रूरतों को ही परिभाषित करते हैं। रोटी और कपड़ा इंसान एक वक़्त के लिए मांग के भी खा सकता है और पहन सकता है मगर मकान तो खुद ही कमा कर बनाना पड़ता है।

मूलभूत ज़रूरतों में सबसे कठिन है अपना मकान बना पाना। इसी कठिनाई को दूर करने के लिए 25 जून 2015 को माननीय मोदी जी ने ‘प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan Mantri Awas Yojana 2020)  प्रारम्भ की। इस योजना का मुख्य उद्देश्य है कि 2022 तक देश के प्रत्येक नागरिक के पास हो अपना घर। सबको घर उपलब्ध कराना यही मुख्य उद्देश्य है इस योजना का।

प्रधानमंत्री आवास योजना का शुभारंभ कब हुआ?

देश में सबके सर के ऊपर एक छत हो ठीक इसी उद्देश्य से इस योजना का शुभारंभ हुआ। प्रधानमंत्री आवास योजना को दो भागो में बांटा गया है, ग्रामीण एवं शहरी। प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी एवं प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण। शहरी आवास योजना का शुभारंभ 25 जून 2015, नई दिल्ली से हुआ तथा ग्रामीण आवास योजना का शुभारंभ 20 नवम्बर 2016 को आगरा में हुआ।

क्या है प्रधानमंत्री आवास योजना(ग्रामीण)?

ग्रामीण विकास मंत्रालय के अंतर्गत आने वाली इस योजना में ग्रामीण निर्धन तथा कम आय वर्ग के लोगो के अपने घर(पक्के घर) के सपने को पूरा करने के लिए पूर्व में संचालित इंदिरा आवास योजना में कुछ परिवर्तन कर इस योजना की शुरुआत की गई। इस योजना के तहत 2022 तक 2 करोड़ से ज्यादा घर बनाने का लक्ष्य रखा गया।

इस योजना का लाभ लेने वालो का चयन ग्राम सभा द्वारा सामाजिक और आर्थिक जनगणना वर्ष 2011 के आधार पर किया जाएगा। इस योजना में केन्द्र और राज्य का अनुपात 60:40 तथा विशेष राज्यो के लिए 90:10 होगा।

वर्तमान में इस योजना के तहत बनाए जाने वाले घरों का आकार 25 स्क्वायर मीटर है, जिसे की पूर्व में निर्धारित घरों के आकार 20 स्क्वायर मीटर से बढाकर निर्धारित किया गया है। इस योजना के तहत पहले मैदानी क्षेत्रो में 70,000 की राशि तय की गई थी जिसे वर्तमान में बढ़ाकर 1 लाख 20 हजार कर दिया गया है। वही इस योजना के तहत पहाड़ी इलाकों, मुश्किल क्षेत्रों में और आईएपी जिलों में पहले यह राशि 75,000 थी जिसे अब बढ़ाकर 1 लाख 30 हजार कर दिया गया है। जानिए प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए कौन पात्र है? 

क्या है प्रधानमंत्री आवास योजना(शहरी)?

गरीब केवल ग्रामीण इलाक़ो में ही नही रहते, वो शहरों में भी रहते है इसीलिए झोपड़पट्टी वासियों का पुनर्वास तथा कमज़ोर वर्ग को मकान के निर्माण के लिए विशेष आय वर्ग के आधार पर सब्सिडी दी जाएगी। सबको पक्का मकान देने का वादा है सरकार का,यहाँ पक्के मकानों से सरकार का तात्पर्य ऐसे मकानों से है जो आने वाले 30 सालों तक घर में रहने वालों की रक्षा विभिन्न मौसम और परिस्थियों से निपटने में कर पाये। एक लाभार्थी के संपूर्ण परिवार में पति, पत्नी अविवाहित बेटे और बेटियां शामिल होंगी। इस योजना के अंतर्गत लाभ लेने के लिए यह आवश्यक है कि लाभार्थी के परिवार में लाभार्थी या अन्य किसी के भी नाम भारत में कही पर भी कोई पक्का घर रजिस्टर्ड ना हो। जानिए प्रधानमंत्री आवास योजना में कितने पैसे मिलेंगे?

इसके तीन चरण तय किये गए थे, पहला मार्च 2017 तक जिसमे 100 शहरों, दूसरा मार्च 2019 तक जिसमे 200 शहरों तथा तीसरा एवं अंतिम चरण से मार्च 2022 तक अन्य बचे हुए शहरों को इस योजना के अंतर्गत लिया जाएगा।

आवेदन करने के लिए क्या है ज़रूरी दस्तावेज़?

  • पहचान का प्रमाण
  • पैन कार्ड (अनिवार्य )

और नीचे दिये गये दस्‍तावेजों में से कोई एक

  • वोटर कार्ड
  • आधार कार्ड
  • वैध पासपोर्ट
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • फोटोयुक्त क्रेडिट कार्ड
  • सरकारी निकाय द्वारा जारी किया गया फोटोयुक्त पहचान पत्र
  • मान्‍यता प्राप्त लोक अधिकारी या लोक सेवक द्वारा ग्राहक के फ़ोटो युक्त पहचान का सत्यापन (30 दिन से पुरानी नहीं हो)
  • पते का प्रमाण

निम्नलिखित में से कोई भी एक :

  • वोटर कार्ड
  • आधार कार्ड
  • वैध पासपोर्ट
  • मान्‍यता प्राप्त लोक अधिकारी या लोक सेवक द्वारा सत्यापित ग्राहक का फोटो युक्त पहचान पत्र (30 दिन से पुरानी नहीं हो)
  • आय का प्रमाण

नीचे दिये गये सभी दस्‍तावेज :

  • पिछले 2 महीने की सैलरी स्लिप
  • वेतन खाते का पिछले 6 महीने का बैंक स्‍टेटमेंट
  • नवीनतम फॉर्म 16/आइटीआर
  • अन्‍य दस्‍तावेज चालू ऋणों से सम्बंधित दस्‍तावेजों के साथ-साथ 6 महीने का रिपेमेंट बैंक स्‍टेटमेंट
  • संपत्ति के कागजात

Check More Links

नीचे दिये गये सभी दस्‍तावेज :

  • संपत्ति के संपूर्ण श्रृंखलाबद्ध दस्‍तावेजों की प्रति (यदि लागू हो)
  • विक्रय अनुबंध की प्रति (यदि क्रियान्वित है)
  • आवंटन पत्र/क्रेता अनुबंध की प्रति (यदि लागू हो)
  • डेवलपर को किये गये भुगतान की रसीद की प्रति (यदि लागू हो)

क्या शहरी और ग्रामीण दोनों इलाको में लोन (Subsidy) मिलता है?

 

प्रधानमंत्री आवास योजना का उद्देश्य देश में कमजोर आय वर्ग वालों को भी शहरी या ग्रामीण इलाकों में घर उपलब्ध कराना है। इस प्रमुख योजना के अंतर्गत पहली बार घर खरीदने वालों को क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी दी जाती है। यानी घर खरीदने के लिए होम लोन पर ब्याज सब्सिडी प्रदान की जाती है। यह सब्सिडी अधिकतम 2.67 लाख रुपये तक हो सकती है।

योजना के तहत कुल चार कैटेगरी हैं। 3 लाख से 6 लाख सालाना आय वाले इकोनॉमिकली वीकर सेक्शन और लोअर इनकम ग्रुप , 6 लाख से 12 लाख सालाना आय वाले मिडिल इनकम ग्रुप 1 और 12 लाख से 18 लाख सालाना आय वाले मिडिल इनकम ग्रुप 2।

ऐसा नही है कि इस योजना में केवल शहरी लोगो को ही लोन की सुविधा मुहैया कराई जाती हैं। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में भी आप होम लोन ले सकते हैं। आपको इसपर ब्याज  3% की सब्सिडी पर मिलता है। प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत आप दो लाख रुपये तक का होम लोन ले सकते हैं। यह लोन आप ग्रामीण इलाके में घर बनाने से लेकर घर की मरम्मत या उसकी सजावट के लिए भी ले सकते हैं।

अंत में बस यह समझ लीजिए कि इस योजना से आर्थिक रूप से कमज़ोर करोड़ो लोगो का पक्का मकान का सपना पूरा तो होगा ही साथ ही में निर्माण क्षेत्र में रोजगार के भी ढेरो रास्ते खुले मिलेंगे। इस योजना के तहत सरकार के सामने केवल यह चुनौती है कि योजना पूर्ण होने तक पूरी पारदर्शिता बनी रहे। वर्ष 2022, स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूर्ण होने तक हम यही चाहेंगे कि इस योजना के लाभ से प्रधानमंत्री का देखा नए भारत यानी कि न्यू इंडिया का सपना पूर्ण हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *